शुक्रवार, 18 जुलाई 2008

अपनी निर्मम हत्या की प्रतीक्षा में

मै अजन्मी, माँ की कोख में पल रही,
एक भ्रूण कन्या,
मेरा बाप, जिसने माँ की कोख में/ बोया था बेटा,
अंकुरित हो गई बेटी।
अब मेरी हत्या की योजना बना रहा है,
माँ को बहला-फुसला कर मना रहा है।


आगे देखें - बहस : भ्रूण हत्या

0 विचार मंच:

हिन्दी लिखने के लिये नीचे दिये बॉक्स का प्रयोग करें - ई-हिन्दी साहित्य सभा

एक टिप्पणी भेजें