गुरुवार, 9 दिसंबर 2010

कन्यादान -शम्भु चौधरी

एक साइकिल, एक रेडियो,
कुछ कपडे़, थोडे़ गहने,
बारातियो की खातीर-दारी-
दामाद की चेन, सास की साडी़,
समधी की तामीरदारी
मेहमानों की आवभगत,
पंडितों की दान-दक्षिणा
ऐसा लगता था मानो
एक माँ-बाप के लिये
खून देने के बराबर था,
बेटी का ब्याह करना।
माँ-बाप का धर्म जो ठहरा
कन्यादान करना।
-शम्भु चौधरी, कोलकाता-७००१०६, मोब: ९८३१०८२७३७

1 विचार मंच:

हिन्दी लिखने के लिये नीचे दिये बॉक्स का प्रयोग करें - ई-हिन्दी साहित्य सभा

shikha kaushik ने कहा…

bilkul sahi kaha aapne .dahej ke karan beti janm hi abhishap ban gaya hai mata pita ke liye .mere blog vikhyat par aapka hardik swagat hai .

एक टिप्पणी भेजें