मंगलवार, 26 फ़रवरी 2008

इस बहस में भाग लें: प्रन्तीयतावाद का जहर

महाराष्ट्र के राज ठाकरे व बाल ठाकरे का उत्तर भारतियों के प्रति विषपान एवं अंतर्राष्ट्रीय भाषा दिवस की पूर्व संध्या पर भाषा चेतना समिति के एक कार्यक्रम में भाषण देते समय बंगाल के भूमि व भूमि सुधार मंत्री माननीय अब्दुल रज्जाक मोल्ला ने ये वक्तव्य दिया है। इस बयान के प्रकाश में कई सवाल खड़े होते हैं। यह एक अलग विषय है कि श्री मोल्ला ने क्या कहा और क्या नहीं, हमारे राष्ट्र के समक्ष यह प्रश्न जरूर खड़ा हो गया कि इन राजनैतिक नेताओं के इस जहर का सामना हमें किस तरह करना होगा
एक समय था जब इन प्रन्तों से राष्ट्रवाद की मशाल जलायी जाती थी। आज इन प्रान्तों के राज नेताओं का इतना पतन हो चुका है कि ये क्या कह रहें हैं और इनको क्या कहना चाहिये इसमें इनका स्वार्थ कितना छुपा है। यह कोई नहीं जानता, शायद भगवान भी नहीं? इस बहस में पक्ष और विपक्ष दोनों विचार आप दें सकतें हैं बस आपको अपनी भाषा पर नियत्रण रखना जरूरी होगा। आपकी इस बहस को समाज विकास के अगले अंक में प्रकाशित की जायेगी। कृपया अपना पता जरूर लिखें ताकि आपको यह अंक डाक द्वारा भेजी जा सके।
आप अपनी प्रतिक्रिया डाक द्वारा भी हमें भेज सकतें हैं। हमारा पता है:
- शम्भु चौधरी, सहयोगी संपादक , समाज विकास, 152बी, महात्मा गांधी रोड, कोलकाता - 700007
email : samajvikas@gmail.com
भूमि सुधार मंत्री श्री अब्दूल रज्जाक मोल्ला की कथित टिप्पणी:
‘‘जारा मारवाड़ी, तारा सब किछु पोयसा दिए मैनेज कोरे निच्चे, ऐरा मैनेज मास्टर। बांगालीरा किछु कोरते पारचे ना।
ओरा कोनो काज कोरते गेले 10 परसेंट मनी रेखे दाय। पोयसा दिए जे कोनो काज कोरिये नाय।
अर्थात
जो मारवाड़ी हैं, वो सब कुछ पैसे देकर मैनेज कर लेते हैं। ये लोग मैनेज मास्टर हैं। बंगाली लोग कुछ नहीं कर पाते हैं। वो लोग कोई भी काम शुरू करते समय 10 परसेंट मनी रख देते हैं। पैसे देकर कोई भी काम करवा लेते हैं।
मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य की टिप्पणी:
मारवाड़ी समुदाय के खिलाफ राज्य के एक मंत्री अब्दुल रज्जाक मोल्ला के गैर जिम्मेदाराना बयान शर्मसार राज्य के मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य ने आज सरकार की ओर से माफी मांगी। राइटर्स बिल्डिंग में जब तृणमूल के विधायक दिनेश बजाज व मारवाड़ी समाज के प्रतिनिधियों ने मंत्री के बयान के खिलाफ मुख्यमंत्री के समक्ष शिकायत दर्ज करायी। मुख्यमंत्री ने इनके माध्यम से समुदाय से मांफी मांगी। मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य ने कहा है कि मारवाड़ी या हिंदीभाषी को लेकर किसी तरह की दुर्भावना सरकार में नहीं है । उन्होंने मामले मे सफाई देते हुए कहा कि मारवाड़ी व हिंदीभाषी समाज के बिना हम सब अधूरे हैं । आपके समाज का बंगाल के विकास में बहुत बड़ा योगदान हैं। औद्योगिकीकरण की दिशा में जिस तरह से यह राज्य आगे बढ़ रहा है, इसमें आपके समाज की अहम भूमिका है।
विमान बोस (मकपा राज्य सचिव) - पार्टी सहमत नहीं
माकपा के राज्य सचिव विमान बोस ने कहा कि राज्य के भूमि सुधार मंत्री अब्दुल रज्जाक मोल्ला ने मारवाड़ी (हिंदीभाषी) समुदाय के खिलाफ जो टिप्पणी की है, उससे राज्य माकपा का कोई लेना देना नहीं है, हमारी पार्टी किसी संप्रदाय या समुदाय या भाषा के खिलाफ किसी तरह का विद्वेष नहीं रखती। हमारी पार्टी सामाजिक समरसता की हिमायती है। हम किसी भी समुदाय या जाति या प्रांतवाद पर यकीन नहीं रखते ।
महाश्वेता देवी - एकता को खतरा
मारवाडि़यों पर रिश्वत देने का रास्ता अपनाने का आरोप लगाने के मंत्री अब्दुल रज्जाक मोल्ला के बयान पर साहित्यकार महा’वेता देवी ने कहा कि ऐसे बयानों से देश की एकता को खतरा हो सकता है। रिश्वत देकर काम निकालने का रास्ता सभी अपनाते हैं। ऐसे में केवल एक समुदाय पर आरोप लगाना काफी गलत हैं। मंत्री का बयान गैरजिम्मेदाराना है।

0 विचार मंच:

हिन्दी लिखने के लिये नीचे दिये बॉक्स का प्रयोग करें - ई-हिन्दी साहित्य सभा

एक टिप्पणी भेजें